Best Cow essay in hindi for class 5 | गाय पर निबंध

Cow essay in hindi: दोस्तों आज हम गाय पर निबंध लेकर आये हैं यहाँ हम इसको अलग अलग तरह से अर्थात 200, 300, 400 ओर 500 शब्दों में लिखकर डालेंगे जिसमें आपको जितने भी शब्दों का गाय पर निबंध चाहिए आप उसमें से वही लिख सकते हो।

Cow essay in hindi पहली कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को आना चाहिए क्योंकि क्या पता कब आपसे कोनसी परीक्षा में यह पूछ लिया जाए। इसलिए आपको ऐसे निबंध को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और इसको समय समय पर पढ़ते रहना चाहिए जिससे आपको हमेशा यह गाय पर निबंध याद रह सके।

Cow essay in hindi लिखने के बहुत से तरीके है जैसे गाय की शरीरक बनावट पर निबंध लिख सकते हैं या फिर गाय की नस्लों पर निबंध लिख सकते हैं। गाय सबसे प्राचीन पालतू पशु है इसलिए हम गाय के इतिहास को लेकर भी गाय पर निबंध लिख सकते हैं गाय को हिन्दू धर्म मे माँ का दर्जा प्राप्त है। भारत मे गाय को गाय माता कहा जाता है।

 

Cow Essay In Hindi प्रस्तावना

 

दुनियाँ भर में गाय एक पालतू पशु है जिसे दुनियां भर में रहने वाले लोग पालते हैं और यह आज से नहीं बहुत समय पहले से चला आ रहा है प्राचीन काल मे भी गाय को पालतू पशु के तौर पर पाला जाता था। भारत देश मे तो गाय को माँ का दर्जा प्राप्त है इसलिए भारत मे गाय को गाय माता कहकर बुलाया जाता है और गाय को पूजा भी जाता है।

 

Cow Essay In Hindi गाय की शरीरक बनावट

 

गाय एक विशाल शरीर वाला पूंछ है, जो अपने चार पैरों पर चलता है, गाय के दो सींग, दो आँखें, दो नथुने, एक पुछ, दो कान ओर चार थन होते हैं। गाय के सींग की बात करें तो कुछ गाय के सींग लम्बे होते हैं और कुछ गाय के सींग छोटे होते मगर हर गाय के पास दो सींग होते हैं परंतु गाय की कुछ ऐसी प्रजातियां भी है जिनके पास सींग नहीं होते मगर ऐसी प्रजातियाँ भारत मे बहुत ही कम पाई जाती हैं।

गाय अपने सींग से अपनी रक्षा भी करती है जब कोई गाय को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है तो गाय उसको अपने सींग पर उठाकर पटक देती है।

गाय की पूंछ भी काफी लंबी होती है जिससे वह अपने पीछे बैठे पक्षी ओर कीड़े मकोड़ों को अपनी पूंछ हिला कर हटाती रहती है देखा जाए तो गाय के पास अपनी रक्षा करने के लिए आगे और पीछे सींग ओर पूंछ होते हैं। गाय के पैरों के नीचे खुर होते हैं जो गाय की चलने में मदद करते हैं और नीचे से गाय के पैरों की रक्षा करते हैं, गाय के बछड़े नो महीने में होते हैं। गाय कई रंगों में पाई जाती है जैसे सफेद, काला, भूरा ओर लाल। गाय के जीवन काल की बात करें तो एक गाय 10 से 20 साल तक जिंदा रहती है।

 

गाय का उपयोग | Cow essay in hindi

 

गाय का सबसे बड़ा उपयोग तो यही है कि गाय हमें शुद्ध दूध देती है जिससे हम सैंकड़ों प्रकार की खाने वाली चीजें बनाते है, गाय के दूध से देसी घी, दहीं और मखन जैसे डेयरी प्रोडक्ट बनाये जाते हैं जो हमारे रोज़ाना के जीवन का हिस्सा है। गाय का दूध सेहत के लिए बहुत फायदेमंद ओर लाभदायक है। नवजात बच्चे जिन्हें माँ का दूध नहीं मिल पाता उनके लिए भी गाय दूध को प्राथमिकता दी जाती है।

गाय का मूत्र ओर मल भी हमारे बहुत काम आता है, गाय के मूत्र से कई प्रकार की आयुर्वेदिक दवाइयाँ बनाई जाती है और कई रोगों को नष्ट करने में प्रभावी होता है और गाय का मल अर्थात गोबर भी सूखा कर जलाने के काम आता है और गाय का गोबर ज़मीन में खाद का काम भी करता है। जो कि फसलों के लिए लाभदायक साबित होता है।

 

गाय का महत्व

 

गाय का मनुष्य के लिए बहुत अधिक महत्व है भारत मे सबसे ज्यादा गाय को पाला जाता है और गाय को पूजा जाता है, गाय का को मारना ओर उसका मास खाना भारत मे एक अपराध है यदि कोई ऐसा करता है तो उसे सजा का प्रावधान है।

भारत में हज़ारों की संख्या में गौशाला बनाए गए हैं जहाँ पर आवारा भटक रही गाय को रखा जाता हैं। भारत में कई हिन्दू धर्म के त्योहारों पर गाय की पूजा की जाती है आप इससे भी गाय माता के महत्व का अंदाजा लगा सकते हो।

 

गाय की नस्लें cow essay in hindi

 

यदि गाय की नस्लों की बात करें तो दुनिया भर में गाय की सैकड़ों नस्लें पाई जाती है ओर भारत मे सबसे ज्यादा गाय पाई जाती है। गाय की सैंकड़ों नस्लों में से कुछ प्रमुख नस्लें इस प्रकार हैं:- राठी नस्ल, गिर, साहिवाल, मेवाती, थारपारकर और लाल सिंधी।

 

गाय की वर्तमान स्थिति

 

गाय की वर्तमान स्थिति कुछ ज्यादा सही नहीं है लोग गाय को पूजते हैं मगर फिर भी बहुत सी गाय सड़कों पर आवारा फिरती रहती है जिनको खाने के लिए भर पेट भी नहीं मिल पाता और ऐसी ही गाय सड़कों पर एक्सीडेंट का कारण भी बनती हैं।

भारत मे गोशाला की गिनती तो काफी है मगर फिर भी अभी बहुत सी ऐसी गाय है जो सडकों पर आवारा फिरती है इसलिए सरकार को भी इस तरफ कदम उठाते हुए बहुत से गोशाला खोलने चाहिए जिससे गाय की वर्तमान स्थिति को ठीक किया जा सके।

अवारा गायोँ को खाना मिल पाने के कारण वह इधर उधर कूड़े में मुँह मरती रहती है जिससे उनके अंदर पॉलीथिन ओर कुछ खतरनाक चीजें जिनकी वजह से उनकी मृत्यु हो जाती है इसलिए गाय की वर्तमान स्थिति को अभी बहुत ज्यादा ठीक करने की ज़रूरत है।

 

उपसंहार

जैसे कि हमें पता है मनुष्य एक मतलबी प्राणी है अपने स्वार्थ के लिए कुदरत की बहुत सी चीजों ओर जानवरों के साथ खिलवाड़ करता रहता है जो कि बिल्कुल सही नहीं है हमें अपने मतलब के लिए गाय को या फिर किसी भी अन्य पशु को नुकसान नहीं पहुँचाना चाहिए। Cow essay in hindi

हमें जितना हो सके अपनी तरफ से गाय की स्थिति को ठीक करने की कोशिश करनी चाहिए ज्यादा नहीं तो रोज़ाना की एक रोटी गाय को ज़रूर खिलानी चाहिए।

Read More:

कोणार्क मंदिर History In Hindi | 10+ Best Facts Konark Temple

Leave a Comment