Indian Railway Facts In Hindi | भारतीय रेल से जुड़े तथ्य

दुनिया का चौथा सबसे बड़ा indian Railway Network है, जिसके इतिहास के बारे में आज हम बात करेंगे और इसके पूरे इतिहास से वर्तमान तक के बारे में जानेंगे कैसे और किस हालातों में भारत रेल को शुरू किया गया और कैसे यह इतना बड़ा रेलवे नेटवर्क बन गया तो चलिए शुरू करते हैं।

 

Indian Railway Facts in hindi

 

भारत में जब अँग्रेज शासन चल रहा था 1832 में भारत में रेल चला कर के पहली बार किया था लुड़ ओसी ने ओर 1837 में मद्रास के लिए रेल का शुरुआत हुआ था जो की माल परिवहन रेल गाड़ी थी, 1840 में कोलकता से लेकर मुंबई तक भी माल परिवहन रेलगाड़ी तैयार किया गया।

 

भारत में पहेली बार लोकोमोटिव यात्री ट्रैन 1853 अप्रैल 16  को मुंबई की बोरीबन्दर स्टेशन से थाने को पहली यात्री ट्रैन चलाया गया था, बोरीबंदर का यह  रेलवे स्टेशन अभी सीएसटी के नाम से जाना जाता है। इस ट्रेन में 14 डब्बे के साथ 400 लोग बैठे थे, इस ट्रेन 35 किलोमीटर जाने के लिए 57 मिंट लगाए थे, उसके बाद कोलकता से हूगली मद्रास से दिल्ली होकर 1857 तक पुरे 4000 किलोमीटर तक रेलवे का जाल फ़ैल गया था।

पहले कोई भी ट्रैन में टॉयलेट नही था 1891 में ट्रैन डब्बे के अंदर टॉयलेट दिया गया ओर साथ में ट्रैन डब्बे के अंदर लाइट की भी व्यवस्था कराई गयी, 1925 में पहली बार भारत में बिजली पर चलने वाली ट्रैन चलाई गयी कुर्ला से ठाणे के बीच। उस वक़्त भारतीय लोग अंग्रेजों को भगाने में जुटे थे जिसके कारन 1930 से लेकर 1954 तक रेलवे के कोई भी परिवर्तन नही हुआ।

 

Indian Railway Facts Knowledge

 

भारत में पहली बार 1837 में ट्रैन का टेस्टिंग हुआ था,

16 अप्रैल 1853 भारत में पहली बार यात्री ट्रैन को चलाया गया था।

भारत का रेलवे नेटवर्क दुनिया का 4था सबसे बड़ा रैल नेटवर्क है।

भारत में 1925 में पहली बार बिजली पर चलने वाला ट्रैन चलाया गया।

1957 में भारत (आर डी एस सी) रेलवे का एक दूसरा डिपार्टमेंट खोला गया जो भारत रेलवे को कंट्रोल करने के लिए बनाया गया।

भारत में 1986 में पहली बार मुंबई में रिज़र्वेशन टिकट लागू हुआ था।

भारत को लूटने के लिए ही अंग्रेजों ने भारत में ट्रैन चलाया था।

भारतीय रेलवे का रेल नेटवर्क 65,0000 किलोमीटर तक फ़ैला हुआ है,

भारत में अब कुछ वक्त पहले ही मेट्रो ट्रैन भी चलने लगा है।

हावड़ा जंक्शन भारत का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन है जहाँ 23 प्लेटफॉर्म है।

गोरखपुर रेलवे प्लेटफार्म भारत का बड़ा रेलवे प्लेटफार्म है।

 

आपको indian Railway Network के इतिहास की यह जानकारी कैसी लगी और इनमें से आप कितना जानते थे और कितना आपको यहाँ से पता चला यह हमें कमेंट कर ज़रूर बताएं, और हमारी साइट के साथ जुड़े रहें हम आपके लिए ऐसी और भी जानकारी लेकर आते रहेंगे।

 

Read More:

Somnath Temple History In Hindi

Jagannath Temple History In Hindi

Kedarnath Temple History In Hindi

Leave a Comment