LLB Full Form | एलएलबी से जुड़ा सामान्य ज्ञान 2021

दोस्तों LLB यह शब्द अक्सर आपने वकीलों से सबंधित किसी स्थान पर देखा होगा। यह देख कर आपके मन में यह सवाल तो ज़रूर आता होगा कि आखिर LLB Full Form क्या होगा और ऐसे ही एलएलबी के साथ जुड़े कुछ सवाल जिनके बारे में आपको नहीं पता होगा।

तो आज हम एलएलबी से जुड़े आपके कुछ ऐसे सवालों के जवाब लेकर आये हैं जिनके बारे में आप नहीं जानते और जानना चाहते हैं।

यदि एलएलबी से जुड़ा आपका किसी भी तरह का आपका सवाल है तो आप इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें, क्योंकि आपको इस पोस्ट में लगभग आपके सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे यदि आपको इसमें आपके सवाल का जवाब नहीं मिलता तो हमें कमेंट कर बता दें हम वह जानकारी भी इस पोस्ट में जोड़ देंगे।

 

एलएलबी फुल फॉर्म ~ LLB Full Form In Hindi

 

अवश्य ही जिसके बारे में जानने के लिए आप यहाँ तक आये हैं, तो आपका ज्यादा वक्त ना लेते हुए सीधा मुद्दे की बात पर आते हैं। यदि आप जानना चाहते हैं कि LLB Full Form एलएलबी का फुल फॉर्म क्या है तो हम आपको बता दें की एल एल बी का फुल फॉर्म Bachelor of Laws या फिर Latin भाषा में Legum Baccalaureus होता है।

इसको हम हिंदी में विधि स्नातक कहते हैं, या फिर आसान भाषा मे इसे हम कानून की पढ़ाई भी कह सकते हैं। मगर एलएलबी का हिंदी में शुद्ध मतलब विधि स्नातक ही होता है।

 

एलएलबी का क्या मतलब होता है?

 

एलएलबी का मतलब बैचलर ऑफ लॉ होता है, यह एक कानून की डिग्री होती है जो वकील बनने के लिए की जाती है। एलएलबी करने के लिए आपको किसी भी विषय में स्नातक करने के बाद तीन साल की यह डिग्री करनी होती है जिसे विधि स्नातक कहा जाता है।

यह एक undergraduate course होता है जो law के अलग अलग प्रकार के बारे में विभिन्न विषयों के बारे में सिखाता है, और LLB Course करने वाला वकील बन सकता है।

यदि आप 12वीं के बाद एलएलबी करना चाहते हैं तो भी आप कर सकते हैं इसमें आपको स्नातक की डिग्री की ज़रूरत नहीं पड़ेगी आप सीधे एलएलबी की डिग्री कर सकते हो जिसके लिए आपको पांच साल तक इसकी पढ़ाई करनी होगी जिसके बाद आपको एलएलबी की डिग्री मिल जाएगी।

 

एलएलबी में कितने विषय होते हैं

 

यह तीन साल का कोर्स है जिसमें कुल 6 सेमेस्टर होते हैं, और इन सभी Six semesters में विभिन्न विषय होते हैं जो इस प्रकार से हैं:-

सबसे पहले सेमेस्टर में आपको आपको बेसिक सिद्धान्तों और मुख्य कानूनों को अच्छे से समझाने के लिए मुख्य विषय Labour Law, Crime और Family Law जैसे विषय शामिल किए गए हैं इसके अलावा इसमें आपको कुछ ऑप्शनल विषय भी मिलते हैं जिसमें से आप अपनी रुचि के हिसाब से चुनाव कर सकते हो।

एलएलबी के दूसरे सेमेस्टर में आपको पहले सेमेस्टर में पढाये गए विषयों को विस्तार से पढ़ाया जाता है, आपकी कानूनी विषयों पर समझ को और अधिक बढ़ाया जाता है जिसके लिए इस समेस्टर में Constitutional Law, Family Law और Consumer Law जैसे विषयों की Deep study कराई जाती है। जिससे आपकी समझ इन विषयों पर अच्छी बन सके।

तीसरे सेमेस्टर मैं आते आते आप बहुत हद तक कानूनों को समझने लगते हैं इसलिए इसमें कुछ ओर विषय शामिल किए जाते हैं जिनमें Human Rights, Environment Law, Conciliation Alternative और Evidence  आदि विषय होते हैं।

बाकी के बचे तीन सेमेस्टर के विषयों के बारे में विस्तार से जानने के लिए आप यहाँ Click 👉 LLB का पूरा Syllabus करके देख सकते हो।

 

वकील बनने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए?

 

वकील बनने के लिए ज़रूरी है एलएलबी करना यदि आप स्नातक के बाद तीन साल वाली एलएलबी कर रहे हैं तो आपकी आयु 30 वर्ष से कम होनी चहिये। यदि आप पांच साल वाला एलएलबी कोर्स कर रहे हैं तो आपकी आयु सीमा 20 से 23 के बीच होनी चाहिए। इसके बाद आप पर निर्भर करता है कि आप कितने समय में अनुभव लेकर अच्छे वकील बन सकते हैं।

परंतु यदि आप सरकार वकील बनना चाहते हैं तो जसके लिए एक आयु सीमा है जो 40 साल से अफधि है। अर्थात सरकारी वकील बनने के लिए आपकी उम्र कम से कम 45 साल से ऊपर होनी चाहिए और आपके पास 20 साल तक का वकालत का अनुभव होना चाहिए।

 

एलएलबी के बाद क्या करते हैं?

 

LLB करने के बाद आपके सामने बहुत सारे विकल्प होते हैं जिनमें से आप किसी को भी अपना सकते हैं, सबसे पहले तो आप यह कर सकते हैं कि एलएलबी की डिग्री लेने के बाद किसी अनुभवी वकील के साथ रहकर वकालत करने अच्छे से सीख सकते हैं। यदि आप वकालत में उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं तो एलएलबी के बाद आप एलएलएम भी कर सकते हैं।

इसके अलावा आप वकालत के क्षेत्र में टीचर बनना चाहते हैं तो आप एलएलएम करके लॉ पीएचडी हासिल करके इस विकल्प का भी चुनाव कर सकते हैं। राज्य स्तर पर कई ऐसी परीक्षाएं होती है जिन्हें उत्तरीन कर आप जज बन सकते हैं।

परंतु यह सब करने के लिए आपके पास अनुभव भी होना चाहिए इसके लिए आपको किसी अनुभवी वकील के साथ रहकर वकालत को अच्छे से जरूर सीखना चाहिए।

 

एलएलबी की फीस कितनी है?

 

एलएलबी डिग्री करने के लिए आपको किसी लॉ कॉलेज में एडमिशन लेनी होगी पर उससे पहले यदि आप LLB की फीस कितनी है यह जानना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि यह पूरी तरह से निर्भर करता है कि आप किस लॉ कॉलेज से अपनी एलएलबी की डिग्री कर रहे हैं।

यदि आप किसी सरकारी लॉ कॉलेज का चुनाव एलएलबी के लिए करते हैं तो यहाँ पर आपको बहुत कम फीस देनी होगी क्योंकि सरकारी कॉलेज प्राइवेट लॉ कॉलेज से काफी कम फीस लेते हैं।

जैसे यदि कोई एक प्राइवेट लॉ कॉलेज वाले आपसे 400000 से 500000 रुपये फीस ले रहे हैं तो वही यदि आप सरकारी कॉलेज में करते हैं तो आपसे वहां पर 150000 से 200000 तक फीस ली जाएगी।

एलएलबी में कुल दो तरह के कोर्स होते हैं एक पांच साल के लिए जो 12th के बाद आप करते हैं और दूसरा तीन साल के लिए जो आप ग्रेजुएशन के बाद करते हैं। यदि आप तीन साल का एलएलबी कोर्स कर रहे हैं तो आपको कुल छह सेमेस्टर कराए जाएंगे जो हर एक सेमेस्टर 6 महीने का होगा और इसमें सेमेस्टर के हिसाब से फीस ली जाएगी।

प्राइवेट कॉलेज में एक सेमेस्टर की यह फीस लगभग 50000-70000 तक हो सकती है। वही सरकारी कॉलेज में एक सेमेस्टर की यह फीस लगभग 20000 से 25000 तक हो सकती है।

जिसे देख कर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आपको एलएलबी डिग्री लेने के लिए तीन साल में कितनी फीस भरनी पड़ेगी। यह फीस राज्य, क्षेत्र और कॉलेज पर भी निर्भर करती है इसलिए एक बार अपने करीबी किसी लॉ कॉलेज के से इसके बारे में पता ज़रूर कर लें।

 

एलएलबी करने के क्या फायदे हैं?

 

एलएलबी करने के बहुत से फायदे हो सकते हैं मगर यहाँ पर मैं आपको इसके कुछ खास फायदे बताऊंगा जो आपको LLB करने के बाद हो सकते हैं। पहली बात तो यह है कि इस लाइन में अच्छा पैसा कमाया जा सकता है जिसके लिए हम कोई भी काम करते हैं। इसके अलावा अन्य फायदे:-

  • आप के पास एलएलबी की डिग्री होगी तो आप बिना किसी एक्सपीरियंस के ही किसी का भी केस लड़ने के लिए तैयार हो जाओगे और कोर्ट से आपको इसकी इजाजत होगी।
  • आपका चार लोगों में सम्मान बढ़ जाएगा।
  • आप कानूनों के बारे में अच्छे से जान जाओगे।
  • आपको कानूनों के बारे में अच्छी जानकारी हो जाएगी और आप अच्छे से किसी भी मुद्दे पर अपनी बात रख पाओगे।
  • लोग आपको वकील साहब के नाम से बुलाने और जानने लगेंगे।

 

वकील कितने प्रकार के होते हैं?

 

वकील जिसको हम इंग्लिश में लॉयर (Lawyer) और एडवोकेट (Advocate) भी कहते हैं, जिस तरह वकील को अलग अलग नामों से हम जानते हैं वैसे ही वकील भी विभिन्न प्रकार के होते हैं जिनमें से कुछ वकीलों की सूची इस तरह से है।

Types Of Lawyers
  • सरकारी वकील
  • प्राइवेट वकील
  • सीनियर वकील
  • जूनियर वकील
  • सुप्रीम कोर्ट के वकील
  • वरिष्ठ वकील फैमिली वकील
  • Matrimonial Lawyer
  • Employment Lawyer
  • Criminal Lawyer
  • Family Lawyer
  • Bankruptcy lawyer
  • Tax lawyer
  • Property Lawyer
  • Corporate lawyer
  • Environmental lawyer Intellectual
  • Property lawyer
  • Employment lawyer

 

प्राइवेट वकील की सैलरी कितनी होती है?

प्राइवेट वकील की सैलरी की बात करें तो हर प्राइवेट सेक्टर की तरह इसमें भी कोई कन्फर्म सैलरी नहीं होती, यदि आप वकालत के बारे में अच्छे से जानते हैं और आपका काफी अनुभव है तो उस हिसाब से आपके पास ज्यादा लोग आएंगे ओर आप ज्यादा सैलरी कमा पाओगे।

वहीं यदि आपके पास अनुभव नहीं है तो आपके पास कम लोग आएंगे जिससे आपकी सैलेरी कम होगी, एक वकील एक हायरिंग के कम से कम 2000 रुपये से 200000 रुपए तक (अंदाज़न) ले सकता है।

 

सरकारी वकील की सैलरी कितनी होती है?

 

एक सरकारी वकील की प्रतिवर्ष आमदनी की बात करें तो यह औसतन 2.8 लाख होती है, परंतु कुछ राज्यों और क्षत्रों के हिसाब से यह ऊपर नीचे भी अर्थात कम या ज्यादा भी हो सकती है। इसके अलावा सरकारी वकील को सैलरी के साथ कुछ मुफ्त सरकारी सेवाएँ भी मिलती हैं।

 

BA एलएलबी फीस कितनी होती है?

 

जैसे कि हमने आपको ऊपर एक पॉइंट में एलएलबी की फीस के बारे में बताया कि इसमें 6 सेमेस्टर होते हैं और फीस सेमेस्टर के हिस्सब से ली जाती है। वैसे ही BA एलएलबी पांच साल की होती है जिसमें 10 सेमेस्टर होते हैं और इसमें भी आपको सेमेस्टर के हिसाब से फीस देनी होगी।

पांच साल में प्राइवेट लॉ कॉलेज की कुल फीस की बात करें तो यह 800000 से 1000000 तक हो सकती है। वहीं सरकारी लॉ कॉलेज में यह फीस प्राइवेट लॉ कॉलेज से काफी कम होगी।

 

BA एलएलबी में कौनसे सब्जेक्ट होते हैं?

 

एलएलबी के कौनसे सब्जेक्ट होते हैं इसके बारे में हमने ऊपर आपको विस्तार से बताया है यदि आपने नहीं देखा तो देख सकते हैं। पर यदि BA LLB की बात करें तो इसके सभी सब्जेक्ट के बारे में हम आपको नीचे विस्तार से बता रहे हैं:-

"<yoastmark

BA LLB 1St Year Subject BA LLB 2nd Year Subject
  • Administrative Law
  • Advocacy Skill
  • Banking & Insurance Law
  • Business Law
  • Code of Civil Procedure
  • Code of Criminal Procedure
  • Constitutional Law
  • Corporate Law
  • Criminology
  • Comparative Law
  • Dissertation
  • Drafting &amp; Pleading
  • Economics
  • Election Law
  • Environmental Law
  • English &amp; Legal Language
  • Foreign Language
  • Forensic Law
BA LLB 3rd Year Subject BA LLB 4th Year Subject
  • Healthcare Laws
  • Human Rights Laws
  • Indian / World History
  • Indirect Taxes
  • International Refugee Laws
  • International Trade Laws
  • Labour Laws
  • Land laws
  • Law of Crimes
  • Law of Evidence
  • Law &amp; Technology
  • Political Science
  • Poverty Laws
  • Property &amp; Security Laws
  • Women &amp; Laws
  • Emerging Areas in the Laws of Evidence
  • Law of Crimes 4&amp;5
  • Liberalization &amp; Related Issues
  • Method of Proof of Facts
  • Public Fiance
  • Supreme Court Visits
BA LLB All Subject
BA LLB All Subject
BA LLB 5th Year All Subject
  • Arbitration &amp; Conciliation
  • Concept of ADR
  • Initial Steps in a Suit
  • Interim Orders
  • International Perspective
  • Negotiation &amp; Meditation

 

वकील बनने के लिए कौनसा विषय पढ़ना पड़ता है?

 

वकील बनने के लिए आपको ऊपर वाले पॉइंट में बताए गए सभी विषय पढ़ने पड़ते हैं, और इसके साथ ही आपको किसी वरिष्ठ वकील के साथ रहकर अनुभव लेना पड़ता है जिससे आप एक अच्छे वकील बन सकते हो।  

 

ग्रेजुएशन के बाद एलएलबी कैसे करें?

 

ग्रेजुएशन के बाद आप एलएलबी करने की सोच रहे हैं तो हम आपको बता दें कि यदि आप पढ़ने में अच्छे हैं और मेहनत करते हैं तो आप एलएलबी आसानी से कर सकते हैं। ग्रेजुएशन के बाद एलएलबी डिग्री करने के लिए आपको एक लॉ कॉलेज में एडमिशन लेनी होगी जिसके लिए एक प्रक्रिया होती है।

लॉ कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए आपको एक CLAT (Common Lat Admission Test) नामक परीक्षा देनी होगी जिसे यदि आप पास कर लेते हैं तो आप लॉ कॉलेज से एलएलबी डिग्री लेने के लिए आगे बढ़ने को तैयार हो जाते हैं।

इसके अलावा और कई परीक्षाओं से भी आप एलएलबी कर सकते हों जिन परीक्षाओं के नाम: Law School Admission Test, All India Law Entrance Test और Law Common Entrance Test हैं।

 

क्या एलएलबी प्राइवेट कर सकते हैं?

जी हाँ यदि आपका सेलेक्शन किसी सरकारी लॉ कॉलेज में नहीं होता या फिर आप किसी सरकारी लॉ कॉलेज से एलएलबी नहीं करना चाहते तो आप प्राइवेट लॉ कॉलेज से भी अपनी एलएलबी पढ़ाई कर सकते हो। मगर इसमें आपको सरकारी लॉ कॉलेज के मुकाबले फीस ज्यादा देनी पड़ेगी।

Read more 👇

DSP फुल फॉर्म इन हिंदी | डीएसपी कैसे बने | कार्य, सैलरी, चुनाव प्रक्रिया

DM Full Form On Goverment Job | Top 10+ Full Form

PWD Full form In Hindi | पीडब्ल्यूडी

ATM full form in hindi | New एटीएम कार्ड कैसे बनवाएँ 2021

CBSE Full Form In Hindi | सीबीएसई क्या है?

Leave a Comment