Meri Maa essay In Hindi For 3rd Class

Meri Maa essay In Hindi: दोस्तों माँ शब्द सुनते ही किसी की आँखें नम हो जाती है तो किसी की आँखों मे खुशी की लहर दौड़ जाती है। जिनके पास माँ नहीं है उनकी आँखें अक्सर माँ शब्द सुनकर नम हो जाती है और जिनके पास माँ है वह माँ शब्द सुनते ही खुश हो जाते हैं।

दुनियाँ में सबसे पवित्र और सच्चा रिश्ता माँ बेटे का होता है। जहाँ माँ को भगवान से भी बढ़कर समझा जाता है और जन्नत का रास्ता भी माँ के पैरों से ही गुज़रता है यह बताया जाता है।

आज हम Meri Maa Essay In Hindi लेकर आये हैं, जिसमें हम माँ के बारे में लिखेंगे ओर माँ के बारे में तो जितना लिखो कम है। माँ के लिए लिखने बेठो तो किताबें खत्म हो जाएंगी मगर माँ के लिए शब्द खत्म नहीं होंगे। पर आज हम आपको यहाँ माँ पर निबंध लिखकर दिखाने वाले हैं जिसे आप पढ़ सकते हो और आप लिख भी सकते हो।

ऐसे तो माँ के बारे में लिखने के लिए किसी को किसी निबंध की ज़रूरत नहीं ओर वह बिना कुछ पढ़े भी माँ के बारे में इतना लिख सकता है। जितना ओर किसी भी विषय मे नहीं लिखा जा सकता परंतु फिर भी छोटे बच्चों के लिए यह थोड़ा कठिन हो सकता है जिससे वह बच्चे इस माँ पर लिखे निबंध को पढ़कर सीख सकते हैं ओर खुद से Meri Maa essay in hindi लिख सकते हैं। तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं मेरी माँ निबंध

 

Meri Maa Essay In Hindi

 

दोस्तों माँ किसी की भी हो वह अपने बच्चों को उतना ही प्यार करती है जितना हर माँ करती है इसलिए तो माँ को भगवान का दर्जा दिया गया है। एक माँ अपना पूरा जीवन बच्चों की देखभाल में निकाल देती है।

एक माँ के लिए अपने बच्चों से बढ़कर कुछ नहीं होता माँ अपने बच्चों के लिए अपनी ज़िंदगी के एक एक पल को लगा देती है। तभी तो कहते हैं कि दुनियाँ में यदि कोई निस्वार्थ भाव से प्यार करता है तो वह माँ है जहां बेवफाई ओर स्वार्थ नाम की कोई जगह नहीं होती।

यदि माँ के आगे एक तरफ बहुत सारा धन रखा हो ओर दूसरी तरफ उसका बच्चा, ओर माँ को दोनों में से एक का चुना करने को कहा जाए तो वहाँ पर माँ करोड़ों के धन को भी ठोकर मारकर अपने बच्चों का ही चुनाव करेगी। यही तो माँ का निस्वार्थ प्रेम होता है इसलिए ही माँ को भगवान मा रूप माना जाता है और माँ को पूजा जाता है।

 

Meri maa essay | माँ का जीवन

 

जब एक माँ बच्चे को जन्म देने वाली होती है तब बच्चा माँ के पेट मे लात मारता है तो उससे होने वाले दर्द में भी खुशी मिलती है एक माँ को। अपने बच्चों को जन्म देने के लिए माँ इतने दर्द को सहती है जितना दर्द कोई आदमी नहीं सहन कर सकता, इसलिए तो माँ की तुलना भगवान से घट कर किसी से की ही नहीं जा सकती।

माँ सुबह जल्दी उठती है अपने बच्चों के लिए नाश्ता बनाती है और फिर बच्चों को स्कूल के लिये तैयार कर स्कूल भेजती है। जिसमे माँ का कोई स्वार्थ नहीं होता बस उसको यही होता है कि उसका बच्चा पढ़ लिख कर अपने पैरों पर खड़ा हो जाए।

बच्चों की खामोशी से भी उनके दर्द को समझना और उनका हर मुसीबत में साथ देना बच्चों पर आने वाली परेशानियों को अपने ऊपर झेल लेना यह एक माँ के अलावा कोई नहीं कर सकता। हर एक माँ यही चाहती है कि उसके बच्चे सही रहने चाहिए चाहे उसके लिए माँ को परेशानियों का सामना ही करना पड़े।

 

माँ का प्यार | Meri Maa Essay In Hindi

 

माँ के प्यार से बढ़कर दुनियाँ में कोई प्यार नहीं होता, एक माँ ही बच्चों को निस्वार्थ प्रेम करती है और अपनी ज़िंदगी का आधे से ज्यादा हिसा अपने बच्चों पर न्योछावर कर देती है। एक माँ अपने सपनों को मार कर भी अपने बच्चों के सपने पूरे कर उनकी खुशी में अपनी खुशी ढूंढती है

ज़िन्दगी में आपको कोई कितना भी चाहने लगे और प्रेम करने लगे मगर उसका प्यार माँ के प्यार से नो महीन कम ही होगा क्योंकि एक माँ बच्चे से तब ही प्रेम करने लगती है जब बच्चा उसकी कोख में होता है।

माँ के प्रेम को दर्शाती कई इतिहासिक घटनाएं भी आपको मिल जाएंगी जिस्से यह साबित होता है कि अनंत काल से माँ का अपने बच्चों के प्रति ऐसा ही निस्वार्थ प्रेम रहा है। माँ के प्यार से जुड़े गाने आज आप सुन सकते हो। और माँ के ना होने का दर्द क्या होता है आप उसको भी महसूस कर सकते हो इन किस्से कहानियों को सुन पढ़कर।

 

माँ बच्चों की पहली शिक्षिका

 

माँ ही बच्चों के जीवन की पहली शिक्षिका होती है तभी तो जब बच्चा जुबान से पहली बार कुछ बोलता है तो वह पहला शब्द ही माँ होती है। बच्चों को चलना, बोलना, खाना और ना जाने कितना कुछ जो सबसे पहले सिखाता है वो होती है माँ।

हम जीवन की शुरुआती शिक्षा की शुरुआत ही माँ से सीखने से शुरू करते हैं इसीलिए माँ को जीवन की पहली शिक्षिका कहा जाता है। बच्चों के जीवन मे सबसे पहले जो महत्वपूर्ण इंसान होता है वह माँ ही होती है।

 

निष्कर्ष

 

तो दोस्तों यह था meri maa essay in hindi, जिसमें हम ने माँ के प्यार, ओर बच्चों के जीवन में माँ के महत्व के बारे में जाना ऐसे तो इस विषय पर हम जितना भी लिखते जाते कम था मगर हमने इसपर बहुत कम लिखा है आप इसको पढ़कर ही खुद से मेरी माँ निबंध लिखना सीख सकते हो।

हमें उम्मीद है कि आपको यह maa essay in hindi पसंद आया होगा और माँ पर लिखा तो सबको ही पसंद आता है इसलिए आप इसे अपने जानने वालों के साथ सांझा जरूर करें।

Read More:

भारत का सबसे बड़ा नेशनल पार्क | Biggest National Park In India 2021

CBSE Full Form In Hindi | सीबीएसई क्या है?

Biggest Water Park In India | वाटर पार्क

30+ Colors Name In Hindi And English

 

Leave a Comment