SDO full form in hindi 2021 ~ एसडीओ

आपने एसडीओ शब्द के बारे में तो ज़रूर सुना होगा पर क्या आप जानते हैं कि एसडीओ का फुल फॉर्म क्या होता है। यदि आप नहीं जानते तो हम आपको बताने वाले हैं एसडीओ फुल फॉर्म इन हिंदी के बारे में इसके साथ ही हम जानेंगे कि एसडीओ के कार्य क्या होते हैं, एसडीओ कैसे बने, एसडीओ और एसडीएम में अंतर आदि।

तो चलिए दोस्तों नीचे विस्तार से जानते हैं sdo से जुड़ी सभी जानकारी के बारे में यदि आप जानना चाहते हैं कि एसडीओ की सैलरी कितनी होती है। तो भी आप इस आर्टिकल को पूरा ज़रूर पढ़ें क्योंकि एसडीओ से जुडी बहुत सारी जानकारी और सारे सवालों का जवाब आपको इस पोस्ट में मिलने वाला है।

 

एसडीओ क्या होता है? ( SDO Meaning)

एसडीओ एक उच्च स्तरीय पद है जो राज्य के अधीन आता है, इस पद पर हर राज्य में एक एसडीओ नियुक्त किया जाता है। एसडीओ राज्य सरकार द्वारा राज्य के विभिन्न विभागों और जिलों में नियुक्त किया जाता है जैसे बिजली विभाग, संचाई विभाग और पुलिस विभाग

Sdo को राज्य में स्थित पूरे विभाग के लिए जिला और ब्लॉक स्तर पर नियुक्त किया जाता है, इसलिए एसडीओ का कार्य भी पूरे उस पूरे क्षेत्र के विभाग के लिए होता है।

 

SDO Full Form | एसडीओ का फुल फॉर्म

एसडीओ का फुल फॉर्म “Sub Divisional Officer” होता है, जिसे हिंदी में हम सब डिविशनल अफसर कह सकते हैं। यदि हिंदी में इसके अर्थ की बात करें तो एसडीओ का हिंदी में मतलब “अनुविभागीय अधिकारी” होता है। एसडीओ पुलिस विभाग में एक उच्च स्तरीय पद होता है, जिस पर एक एसडीओ अधिकारी नियुक्त होता है।

 

SDO का रैंक क्या होता है?

 

एसडीओ विभिन्न विभागों में एक जिला व इससे नीचले स्तर का रैंक है, अलग अलग विभागों में राज्य सरकार द्वारा एक sdo की नियुक्त की जाती है। वह अपनी क्षेत्र में विभाग का सबसे उच्च स्तरीय अधिकारी भी होता है। sdo बिजली विभाग, पुलिस विभाग और संचाई विभाग आदि में नियुक्त किया जाता है।

 

एसडीओ के कार्य क्या होते है?

 

Sdo के अपने क्षेत्र में विभिन्न कार्य होते हैं जिनमें से कुछ मुख्य कार्यों के बारे में हम नीचे बता रहे हैं:-

 

  1. एसडीओ विभिन्न विभागों में नियुक्त किया जाता है तो जिस भी विभाग में एसडीओ कि नियुक्ति है उस विभाग के अंतर्गत आने वाले सभी कार्यों की जांच करना और देख रेख करना कि सभी काम सही से चल रहे हैं या नहीं।
  2. अपने क्षेत्र के विकास कार्यों में भी तहसीलदार और अन्य अधिकारियों की मदद से कार्य करता है।
  3. अपने विभाग द्वारा किये जाने वाले सभी कामों की जांच करना और सभी फाइल्स को देखना।
  4. विभाग के कार्यों किसी भी कार्य के लिए एसडीओ की मंजूरी की ज़रूरत होती है, इसलिए विभाग के सभी कार्यों की जांच करके उनको मंजूरी देना sdo का कार्य होता है।
  5. अपने छोटे विभाग के छोटे अधिकारियों प्रति जनता द्वारा की जाने वाली सभी शिकायतों का निपटारा करना और कार्यवाही करना।

 

एसडीओ कैसे बनते हैं?

 

बहुत से लोगों का सपना होता है सरकारी नोकरी प्राप्त करना और उनमें से लाखों लोगों का सपना एसडीओ बनने का भी होता है। यदि आप भी एसडीओ बनने की सोच रहे हैं तो यहाँ जान लीजिए कि आप कैसे एसडीओ बन सकते हो, जैसे कि आपने ऊपर जाना कि sdo का चुनाव राज्य सरकारों द्वारा किया जाता है।

तो Sdo selection दो प्रकार से होता है पहला यह कि आप जिस विभाग के एसडीओ बनना चाहते हैं, उस विभाग में sdo से किसी छोटे पद पर नियुक्त होकर अच्छे कार्य से प्रोमोट होकर sdo बन सकते हैं। राज्य सरकार द्वारा विभाग में नियुक्त अन्य पदों पर अधिकारियों को प्रोमोशन के ज़रिए एसडीओ बना दिया जाता है।

दूसरा तरीका यह है कि आप सीधा परीक्षा देकर एसडीओ बन सकते हैं, इसके लिए लगभग हर साल लोक सेवा आयोग द्वारा परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इस एसडीओ परीक्षा को उत्तरीन करके आप राज्य के किसी विभाग के एसडीओ बन सकते हैं। इस परीक्षा के लिए कुछ खास बातों का ध्यान रखना होगा जो नीचे बताई गई हैं। 

 

एसडीओ बनने के लिए योग्यता

 

एसडीओ बनने के लिए परीक्षा देने के लिए कुछ रेक्विरमेंट हैं जिन्हें आपको पूरा करना होगा तभी आप यह एग्जाम दे पाओगे। तो सबसे पहले जो ज़रूरी है वह यह कि आपका ग्रेजुएशन पास किया होना चाहिए, इसके बाद एक आयु सीमा तय है यदि आपकी उतनी आयु है तो आप इस एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

आयु सीमा की बात करें तो आपकी आयु 21 से 30 साल के बीच होनी चाहिए यदि आप जनरल कैटेगरी से हैं। एससी/एसटी के लिए 5 साल की और ओबीसी के लिए 3 साल की आयु सीमा में छूट दी जाएगी। यदि आप भारतीय नागरिक हैं तभी आप इस एग्जाम में बैठ सकते हो।

 

एसडीओ बनने की प्रक्रिया

 

यदि आप ऊपर बताई गई सभी क्वालिफिकेशन को पूरा करते हैं तो इसके बाद बात आती है कि एसडीओ बनने के लिये चयन प्रक्रिया क्या होगी? यह भी हम आपको बताते हैं। जब भी लोक सेवा आयोग द्वारा SDO Examination के लिए नोटिस जारी किया जाए तो आप इसके लिए अप्लाई कर दें जिसमें आपको अपनी सभी क्वालिफिकेशन को सबमिट करना होगा।

इसके बाद Sdo Selection के लिए दो चरणों में परीक्षा ली जाएगी, प्रारम्भिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा। यह दो चरणों में परीक्षा कराई जाती है, जो भी उम्मीदवार प्रारम्भिक परीक्षा को पास कर लेते हैं फिर उन्हें मुख्य परीक्षा में बैठने का मौका मिलता है। जो कि प्रारम्भिक परीक्षा से थोड़ी कठिन होती है।

दोनों परीक्षा को पास करने वाले को मेरिट के आधार पर INTERVIEW के लिए बुलाया जाता है, जिसमें आपसे कुछ सवाल जवाब किये जाते हैं। इंटरव्यू भी पास कर लेने पर आप एक SDO Officer बन जाते हैं और आपको जल्द ही जोइनिंग लेटर दे दिया जाता है। 

 

एसडीओ की सैलरी कितनी होती है?

 

एसडीओ की सैलरी की बात करें तो यह पे बैंड 2 के अंतर्गत आती है, Sdo की सैलरी 15600 से लेकर 39100 तक हो सकती है। इसके अलावा भत्ता अलग से दिया जाता है। इसके अलावा अन्य कई सरकारी सुविधाएं सरकार द्वारा दी जाती है जिसमें सरकारी वाहन और मकान जैसी सुविधाएं आती हैं। यह Sdo Sallery इससे अधिक भी हो सकता।

 

एक जिले में कितने एसडीओ होते हैं?

 

एक जिले में हर विभाग के लिए एक एसडीओ हो सकता है, या फिर एक जिले में एक व एक से अधिक एसडीओ भी हो सकते हैं। यह निर्भर करता है उस ज़िले के क्षेत्र और विभागों पर की वहाँ कितने Sdo की नियुक्ति की ज़रूरत है।

 

SDO और SDM में अंतर

 

नीचे कुछ पॉइंट्स के माध्यम से एसडीओ और एसडीएम में अंतर बताया गया है:-

  • SDO का फुल फॉर्म “Sub Divisional Officer” होता है जिसे हिंदी में उपप्रभागीय अधिकारी कहा जाता है, वहीं एसडीएम का फुल फॉर्म Sub-Divisional Magistrate होता है जिसे हिंदी में उप प्रभागीय न्यायाधीश कहा जाता है।
  • एक जिले में sdo की गिनती एक से ज्यादा हो सकती है, एक जिले में एक ही एसडीएम होता है।
  • एक sdo अपने विभाग के अंतर्गत आने वाले सभी कार्यों को देखता है, एक एसडीएम पूरे ज़िले के अंतर्गत आने वाले विभागों के कार्यों देखता है।
  • एसडीओ एक ही विभाग का उच्च स्तरीय पद हो सकता है। एसडीएम पूरे जिले का उच्च स्तरीय पद होता है।

 

Conclusions

इस पोस्ट में हमने Sdo के बारे में विस्तार से जाना और आपको बताया कि आप कैसे sdo पद पर नियुक्त हो सकते हैं, sdo kaise bane और sdo full form in hindi आदि । यदि आपका भी सपना है कि आप सरकारी पद पर sdo bane तो आप यहाँ से दी हुई जानकारी को देख सकते हैं जिसके बाद आपके सामने बहुत सारी बातें साफ हो जाएंगी और आप एसडीओ बनने के लिए आगे बढ़ सकोगे धन्यवाद।

Bihar Student Credit Card Status Check 2021

CBSE Full Form In Hindi | सीबीएसई क्या है?

PWD Full form In Hindi | पीडब्ल्यूडी क्या है और कार्य

DSP फुल फॉर्म इन हिंदी | डीएसपी कैसे बने | कार्य, सैलरी, चुनाव प्रक्रिया

Leave a Comment